Madhav Mukund Rai

   किन्तु वर्तमान में भारत में और पश्चिम में अनेक साईकोलाजिस्ट कुछ दशकों पहले पुर्नजन्म को नहीं मानते थे, किंतु वर्तमान में पश्चिम के अनेक साईकोलाजिस्ट हैं जो अपने मरीजों को पुर्नजन्म में ले जाकर उनकी गंभीर बीमारियों का ईलाज करते हैं। माईकल नीवटन और ब्राईन वैस ने भी इस क्षेत्र में बहुत काम किया है, इन्होंने पुर्नजन्म से सम्बन्धित अनेक पुस्तकें भी लिखी हैं। भारतीय आध्यात्म और भारतीय ऋषियों ने हमेशा से ही पुर्नजन्म की घोषणा की है, इतना ही नहीं बल्कि इन्होंने मनुष्य के हजारों जन्म हो चुके हैं यह भी घोषणा की है। और यह सत्य है। तो सबसे बड़ी विचारणीय बात यह है कि मनुष्य के साथ इस जीवन में बचपन से लेकर अब तक हजारों घटनायें हुई हैं और हजारों जन्मों में लाखों घटनायें घटी होंगी। इन लाखों घटनाओं को इस जन्म में जाना जा सकता है तो आखिर वह कौन सी चीज है जिसमें ये सारी घटनायें स्टोर हैं। मनुष्य का अंतर्मन ही वह शक्ति है। यह अनन्त जी.बी की हार्ड ड्राइव है। यह बहुत शक्तिशाली है। यदि कोई व्यक्ति इसकी शक्तियों को जानले और उन शक्तियों का उपयोग करने के तरीके सीख ले तो वह अपने सारे सपने पूरे कर सकता है। वह जो चाहे पा सकता है, जो बनना चाहे बन सकता है।



featured-deals

Anmol Khazana by Madhav Rai



Available on Amazon and Flipkart


Buy it NOW...